Sunday, January 17, 2021
Home उत्तराखंड समाचार मैथिली ठाकुर के गढ़वाली मांगल गीत गाने पर उत्तराखंड से मिल रही...

मैथिली ठाकुर के गढ़वाली मांगल गीत गाने पर उत्तराखंड से मिल रही ढेरों शुभकामनाएं

- Advertisement -

बिहार की मैथिली ठाकुर ने ‘गढ़वाली मांगल गीत’ को अपनी आवाज में गाकर उत्तराखंड के लोगों का दिल जीत लिया है। सोशल मीडिया पर मिल रही ढेरों शुभकामनायें इस बात का उदाहरण हैं कि मैथिली ठाकुर द्वारा गाया मांगल गीत लोगों को कितना पसंद आ रहा है। मैथिली ठाकुर हिंदुस्तान की संस्कृति के साथ साथ हमारी देवभूमि उत्तराखंड की संस्कृति को भी बढ़ावा दे रही हैं। पूरे उत्तराखंड के लिए यह गर्व का विषय है।

कुछ दिन पहले मैथिली ने कुमाऊंनी स्वाल पथाई गीत गाया था उसे भी उत्तराखंड के लोगों काफी पसंद किया था। अब एक बार फिर मैथिली ठाकुर ने उत्तराखंड के पारम्परिक संगीत में रूचि लेते हुए ‘गढ़वाली मांगल गीत’ भी गाया है।

- Advertisement -

मांगल गीत गाना इतना आसान नहीं होता है और वो भी जब तुम गढ़वाली या कुमाउनी भाषा नहीं जानते हो तब तो इसे बड़ा ही मुश्किल माना जाता है लेकिन मैथिली ने शब्दों पर बेहद ख़ूबसूरती से पकड़ बनाते हुए साबित किया कि मन में कुछ अलग करने की सोच को मजबूत कर लें तो कुछ भी नामुमकिन नहीं है।

आज के समय में मैथिली ठाकुर को देश और दुनिया में लाखों-करोड़ों लोग रोज सुनते हैं। बता दें कि मैथिली ने जिस गीत को गाया है वह उत्तराखंड का एक मांगल गीत है। उत्तराखंड में शादियों में यह गीत गाया जाता है। मैथिली ठाकुर एवं उनके सहयोगी अयाची ठाकुर एवं रिशव ठाकुर द्वारा इस गीत को गाने का बहुत अच्छा प्रयास किया गया है।

मैथिली ने फेसबुक पर लाइव आकर उत्तराखंड के लोगों का आभार व्यक्त किया है, उन्होंने कहा कि लोगों ने मुझे इतना सारा प्यार, शुभकामनाएं दी हैं कि मुझे बहुत मोटिवेशन मिला है और मैं इसी तरह अपनी देश की क्षेत्रीय भाषाओं में और भी अच्छा करने की कोशिश करुँगी।

बता दें कि मैथिली ठाकुर राइजिंग स्टार के सीज़न-1 2017 में भाग लिया था। मैथिली शो की पहली फाइनलिस्ट बनी थी। अक्सर वह मैथिली और भोजपुरी जिसमें छठ गीत और कजरी गाती हैं। वह अन्य राज्यों से कई तरह के बॉलीवुड कवर और अन्य पारंपरिक लोक संगीत भी गाती हैं।

मैथिली का जन्म 25 जुलाई 2000 को बिहार के मधुबनी जिले में हुआ, उनके पिता रमेश ठाकुर लोकगायक और माता भारती ठाकुर, एक गृहिणी हैं। उसके दो छोटे भाई हैं, जिनका नाम रिशव और अयाची है, जो उनकी बड़ी बहन की संगीत यात्रा का अनुसरण करते हैं। देखिये वीडियो-

- Advertisement -

Most Popular

उत्तराखंड में पहले दिन 2276 हेल्थ वर्करों को लगाई गई वैक्सीन

उत्तराखंड में शनिवार को टीकाकरण अभियान सफलता पूर्वक शुरू किया गया। टीकाकरण के पहले दिन 2276 हेल्थ वर्करों को वैक्सीन लगाईं गई।...

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष का एक साल का कार्यकाल पूरा, मुख्यमंत्री ने दी बधाई

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत के अध्यक्षीय कार्यकाल के एक वर्ष पूर्ण होने पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत सहित पार्टी प्रदेश प्रभारी...

महिला ने बेलणी पुल से अलकनंदा में लगाईं छलांग, मौत

रुद्रप्रयाग: बेलणी पुल से एक महिला ने अलकनंदा नदी में छलांग लगा दी, आपदा प्रबंधन की टीम ने महिला को नदी से...

गीता ठाकुर बीजेपी में हुई शामिल

वरिष्ठ कांग्रेस नेत्री कांग्रेस सरकार में समाज कल्याण अनुश्रवण समिति की उपाध्यक्ष ( दर्जा राज्यमंत्री ) रही गीता ठाकुर भाजपा में शामिल...