Sunday, January 17, 2021
Home उत्तराखंड संस्कृति उत्तराखंड इतिहास

उत्तराखंड इतिहास

उत्तराखंड के इतिहास से जुड़ी ये प्रेम कथा जब स्त्री ने किया पुरूष का हरण

उत्तराखंड में भारतीय साहित्य की एक ऐसी प्रेमकथा है जिसमे स्त्री द्वारा पुरुष का हरण किया गया था, यह कहानी है दैत्यराज वाणासुर की...

यहां गिरा था मां सती का धड़, बिना दर्शन के ही हो जाती है सारी मनोकामनाएं पूरी

समूद्र तल से 2277 मीटर ऊंचाई पर मां चन्द्रबदनी मन्दिर माता के 52 शक्तिपीठों मे से ऐक है। मां भगवती का यह मन्दिर श्रीनगर...

विश्व की एकमात्र विरांगना जिसने 15 साल से 20 साल के बीच जीते 7 युद्ध, पढ़िये वीरगाथा..

तिलू रौतेली उत्तराखंड के इतिहास की वो विरांगना जिसकी कहानी आज भी इतिहास के पन्नो पर जब हम पढ़ते हैं तो गर्व महसूस करते...

पुरातत्व विभाग ने तोड़कर पहले जैसे बनाए नौ देवल मंदिर समूह के छह झुके हुए मंदिर

अल्मोड़ा से करीब 30 किमी दूर बमनस्वाल के निकट बानठोक नामक स्थान पर नौ देवल मंदिर समूह है। मंदिर समूह के सभी नौ मंदिर...

जब दो भाई एक लड़की से कर बैठे प्यार, नरु-बिजोला की ये प्रेम कहानी आज भी करती है रोमांचित !

उत्तराखंड के दो वीर भाई नरु बिजोला की कहानी उत्तराखंड के इतिहास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। आज भी लोकगीतों के माध्यम से नरु-बिजोला...

गढ़वाल रायफल के इस सैनिक की बहदुरी को आज भी याद करती है ब्रिटिश सरकार!

उत्तराखंड का एक नाम देवभूमि है तो दूसरा नाम शहीदों की भूमि भी है। बात की जाए टिहरी गढ़वाल की तो देश सेवा के...

राजुला-मालुशाही की यह प्रेमगाथा सोशल मीडिया पर पूरे भारत में हो रही वायरल!

राजुला मालुशाही की कहानी आजकल सोसियल मीडिया पर खूब चर्चा बटोर रही है । लोग इस कहानी को खूब पढ़ रहें ओर शेयर भी...

उत्तराखंड के इस गांव में है मां दुध्याड़ी देवी का ये मंदिर, यहां साक्षात दिखते माता के चमत्कार

टिहरी जिले के भिलंगना ब्लॉक की गोनगढ़ पट्टी में एक गांव हैं दयूल, यह गांव पौनाड़ा के पास पड़ता है। यहां स्थित है मां दुध्याडी...

दिन में तीन बार रूप बदलती है माँ धारी देवी, चार धामों की रक्षक मानी जाती है ये शक्तिपीठ

16 जून 2013 को शाम छह बजे धारी देवी की मूर्ति को अपनी जगह से हटाया गया और रात्रि आठ बजे अचानक आए सैलाब...

जानिऐं बांज उत्तराखंड का सबसे उपयोगी पौधा क्यों है ? जानिऐ कैसे लगाऐं बांज का पौधा

बांज (ओक)- मध्य हिमालयी क्षेत्र में बांज की विभिन्न प्रजातियां (बांज ,तिलौंज,रियांज व खरसू आदि) 1200 मी. से लेकर 3500 मी. की ऊंचाई के मध्य...

117वीं जयंती पर याद किये गए प्रकृति के सुकुमार कवी सुमित्रा नंदन पन्त

प्रकृति के सुकुमार कवि सुमित्रा नंदन पंत को 117वीं जयंती पर याद किया गया। इस मौके पर शहर के विभिन्न क्षेत्रों में कार्यक्रमों का...

चम्पावत के अन्नपूर्णा शिखर पर है मां पूर्णागिरि शक्तिपीठ ।

ज़िला चम्पावत में अवस्थित पूर्णागिरी का मंदिर अन्नपूर्णा शिखर पर 4400 फुट की ऊँचाई पर है । कहा जाता है कि दक्ष प्रजापति की...

Most Read

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष का एक साल का कार्यकाल पूरा, मुख्यमंत्री ने दी बधाई

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत के अध्यक्षीय कार्यकाल के एक वर्ष पूर्ण होने पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत सहित पार्टी प्रदेश प्रभारी...

महिला ने बेलणी पुल से अलकनंदा में लगाईं छलांग, मौत

रुद्रप्रयाग: बेलणी पुल से एक महिला ने अलकनंदा नदी में छलांग लगा दी, आपदा प्रबंधन की टीम ने महिला को नदी से...

गीता ठाकुर बीजेपी में हुई शामिल

वरिष्ठ कांग्रेस नेत्री कांग्रेस सरकार में समाज कल्याण अनुश्रवण समिति की उपाध्यक्ष ( दर्जा राज्यमंत्री ) रही गीता ठाकुर भाजपा में शामिल...

मुख्यमंत्री ने की पेयजल टेरिफ पुनरीक्षण के लिए समिति गठित की

शनिवार को मुख्यमंत्री आवास में पेयजल टेरिफ पुनरीक्षण से सम्बन्धित बैठक की अध्यक्षता करते हुए मुख्यमंत्री ने ने प्रदेश में पेयजल टेरिफ...