देहरादून के बाजारों में अलग-अलग दिन रहेगी साप्ताहिक बंदी, आठ जोन में बांटे इलाके

कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम के लिए जनसुरक्षा हित में जनपद अन्तर्गत स्थानीय बाजारों में साप्ताहिक बन्दी निर्धारित की गयी है। जिलाधिकारी ने बताया कि नगर निगम देहरादून, छावनी परिषद गढीकैन्ट व क्लेमेंटाउन क्षेत्र के समस्त बाजार प्रत्येक रविवार, नगर निगम ऋषिकेश क्षेत्र के समस्त बाजार प्रत्येक वृहस्पतिवार, नगर पालिका परिषद डोईवाला क्षेत्र के समस्त बजार प्रत्येक रविवार, नगर पालिका परिषद मसूरी क्षेत्र के समस्त बजार प्रत्येक बुधवार, विकासनगर-हरबर्टपुर तथा सहसपुर क्षेत्र के समस्त बाजार प्रत्येक शनिवार, चकराता क्षेत्र के समस्त बाजार प्रत्येक बुधवार, कालसी/साहिया क्षेत्र के समस्त बाजार प्रत्येक शनिवार एवं त्यूनी क्षेत्र के समस्त बाजार प्रत्येक रविवार बन्द रहेंगे।

उक्त क्षेत्रों में साप्ताहिक बन्दी दिवसों पर वृहद् स्तर पर सेनिटाईजेशन किया जायेगा। उक्त निर्धारित साप्ताहिक बन्दी दिवसों में सम्बन्धित स्थानीय बाजार एवं उसमें अवस्थित सभी व्यवसायिक प्रतिष्ठान पूर्णतः बन्द रहेंगे तथा केवल आवश्यक सेवाएं यथा दवाओं की दुकानें, फल सब्जी की दुकानें, पैट्रोल पम्प एवं गैस एजेंसियां, डेयरी, टिफिन सर्विस, बैकरी, मीट-मछली की दुकानें( जिनके पास वैध लाईसेंस हों), बेकरी ही प्रातः 07 बजे से रात्रि 8 बजे तक संचालित हो सकेंगी।

साप्ताहिक बन्दी दिवस में वाहनों के आवागमन में छूट रहेगी। इस दौरान निर्माण कार्य, औद्योगिक ईकाइयों से सम्बन्धित गतिविधियां संचालित हो सकेंगी तथा प्रातः कालीन माॅर्निंग वाॅक पर यह प्रतिबन्ध लागू नही होगा।

आज ऋषिकेश क्षेत्रान्तर्गत खाण्ड गांव क्षेत्र को कन्टेंमेंट जोन से मुक्त कर दिया  गया है, जिलाधिकारी ने बताया है कि जनपद में कोरोना वायरस संक्रमण के दृष्टिगत 108 सैम्पल जाचं हेतु भेजे गये तथा 109 सैम्पल प्राप्त हुए, जिनमें 9 व्यक्तियों की रिपोर्ट पाॅजिटिव आने के फलस्वरूप जनपद में कोरोना पाॅजिटिव संक्रमितों की संख्या 742 हो गई है, जिनमें 112 व्यक्ति वर्तमान में उपचाररत् हैं। इसके अतिरिक्त जनपद में आज कुल 338 व्यक्तियों के सैम्पल लिये गये।

देहरादून: जिले में अब सिर्फ 13 कन्टेनमेंट जोन बचे, ये दो इलाके मुक्त हुए

देहरादून : राजधानी दून में जाॅन ढाबा कैन्ट रोड मोथरोवाला और विवेक विहार भाग-5 जाखन क्षेत्र को कन्टेंमेंट जोन से मुक्त कर दिया गया है। इसके साथ ही दून में अब सिर्फ 13 कन्टेनमेंट जोन रह गए हैं, जिसमे ऋषिकेश के तीन कन्टेनमेंट जोन भी शामिल हैं।

ऋषिकेश में भागीरथीपुरम चोपड़ा फर्म, विलेज खंड, सब्जी मंडी कन्टेनमेंट जोन घोषित हैं। डोईवाला में बिचलि जोली सोलंकी मोहल्ला और वार्ड न-15 तेलीवाला कन्टेनमेंट जोन घोषित हैं। इसके अलावा साईं लोक लेन न-02 वसंत विहार, स्मायली बुक डिपोट वाली गली, राम विहार बल्लूपुर, पूर्वी पटेलनगर, चमनपुरी पटेलनगर, 16 मोहिनी रोड़ डालनवाला, 60/1 गोविंदगढ़ और 202 ईदगाह चकराता रोड़ कन्टेनमेंट जोन घोषित हैं।

जिला प्रशासन द्वारा आज जनपद के विभिन्न चयनित स्थानों पर अधिकृत 18 मोबाईल वैन के माध्यम से 121 क्विंटल फल-सब्जियों का विक्रय किया गया। दुग्ध विकास विभाग द्वारा जनपद के कन्टेंमेंट जोन क्षेत्रान्तर्गत कुल 131 ली0 दूध विक्रय किया गया।

जिलाधिकारी आशीष कुमार श्रीवास्तव ने बताया है कि जनपद में कोरोना वायरस संक्रमण के दृष्टिगत 123 सैम्पल जाचं हेतु भेजे गये तथा 59 सैम्पल प्राप्त हुए, जिनमें 1 व्यक्ति की रिपोर्ट पाॅजिटिव आने के फलस्वरूप जनपद में कोरोना पाॅजिटिव संक्रमितों की संख्या 713 हो गई है, जिनमें 104 व्यक्ति वर्तमान में उपचाररत् हैं। इसके अतिरिक्त जनपद में आज कुल 444 व्यक्तियों के सैम्पल लिये गये।

हेल्थ बुलेटिन: उत्तराखंड में आज 37 नए कोरोना केस मिले, एक बुजुर्ग की मौत

देहरादून: उत्तराखंड स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना संक्रमित मरीजों का लेटेस्ट हेल्थ बुलेटिन जारी किया है, हेल्थ बुलेटिन के अनुसार आज में 37 नए मरीज कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। आज नैनीताल से 17, यूएसनगर से 16 देहरादून से 01, अल्मोडा से 01, पौडी से 01 और पिथौरागढ़ से 01 एक मामला सामने आया है।

इसके साथ ही राज्य में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 2984 हो गया है। प्रदेश में आज 88 मरीज ठीक होकर घर लौट गए इस तरह अब तक 2405 मरीज ठीक हो चुके हैं।

प्रदेश में अब 510 एक्टिव केस ही बचे हैं। राज्य में आज एक 72 वर्षीय कोरोना संक्रमित बुजुर्ग की मौत हो गई, इस राज्य में अब तक 42 कोरोना पॉजिटिव मरीजो की मृत्यु हो चुकी है।

आज टेस्टिंग के लिए लैब में 1143 सैंपल भेजे गए हैं, राज्य मे अब तक 60555 सैम्पल की रिपोर्ट नेगेटिव आ चुकी है वहीं 5968 मरीजों की सैम्पल रिपोर्ट आनी बाकी है।

लोकगायक स्व. जीत सिंह नेगी के नाम से जाना जाएगा संस्कृति विभाग के प्रेक्षागृह-मुख्यमंत्री

पौड़ी के अयाल गांव में जन्मे संगीतकार, गीतकार, गायक, निर्देशक, रंगकर्मी स्वर्गीय जीत सिंह नेगी के नाम पर संस्कृति विभाग के प्रेक्षागृह का नाम होगा। देहरादून में हरिद्वार बाईपास पर आकाशवाणी भवन के निकट संस्कृति विभाग के प्रेक्षागृह है। इस हाईटेक प्रेक्षागृह की क्षमता 270 है। फरवरी में मुख्यमंत्री ने इसका उद्घाटन किया था।

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने घोषणा करते हुए कहा कि स्वर्गीय श्री जीत सिंह नेगी उत्तराखंड के लोक संगीत का प्रमुख स्तम्भ थे। गढ़वाली लोकगीत को राष्ट्रीय स्तर पर लोकप्रियता दिलाने का सबसे पहले श्रेय जीत सिंह नेगी जी को ही जाता है। वर्ष 1947 में एचएमवी ने उनके गीतों को उन्हीं की आवाज में रिकॉर्ड किया था।

उन्होंने लोक कलाओं की अनेक विधाओं में योगदान दिया। वे लोक कलाकार के साथ रंगकर्मी भी थे। उनके गीतों में पहाड़ की भावनाएं महसूस की जा सकती हैं।  मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वर्गीय जीत सिंह नेगी जी को श्रद्धांजलि स्वरूप प्रेक्षागृह का नाम उनके नाम पर किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोई भी सभ्यता अपनी संस्कृति से ही जीवंत रहती है। राज्य सरकार उत्तराखण्ड की संस्कृति को देश व दुनिया तक पहुंचाने के लिए प्रयासरत है। लोक कलाकारों के संरक्षण के लिए अनेक महत्वपूर्ण काम किए जा रहे हैं। वृद्ध कलाकारों व लेखकों को मासिक पेंशन के साथ ही सांस्कृतिक गतिविधियों से जुडे स्वायत्तशासी संस्थाओं को अनुदान दिया जा रहा है।

सांस्कृतिक एवं ऐतिहासिक महत्व के स्मारकों व प्राचीन भवनों का संरक्षण किया जा रहा है। क्षेत्रीय एवं स्थानीय संग्रहालयों के उन्नयन और सुदृढीकरण के लिए वित्तीय सहायता दी जा रही है। कला एवं अन्य विधाओं से जुडे निर्धन कलाकारों तथा उनके आश्रितों को वित्तीय सहायता भी दी जा रही है। कोविड-19 के दृष्टिगत भी संस्कृति विभाग में सूचिबद्ध कलाकारों को एक-एक हजार रूपए की वनटाईम आर्थिक सहायता उपलब्ध कराई जा रही है।

देहरादून: कन्टेनमेंट जोन से बाहर हुए ये इलाके, पिछले 28 दिनों से नहीं आया कोई नया केस

देहरादून के विकासनगर तहसील क्षेत्रान्तर्गत स्थित हड़ोवाला अशोक आश्रम के पास बाड़वाला, ग्रामसभा पसौली मौजा लांघा वार्ड न0-8, नगर निगम देहरादून क्षेन्त्रातर्गत बसन्त विहार फेस-2 ट्रान्सफार्मर वाली गली, बलजीत सिंह सरदार वाली गली खुड़बुड़ा क्षेत्र को कन्टेनमेंट जोन से बाहर किया गया है। इन कन्टमेंन्ट क्षेत्रों की 28 दिन की एक्टिव सर्विलांस के पश्चात  मुख्य चिकित्सा अधिकारी द्वारा की गयी संस्तुति के उपरान्त जिलाधिकारी ने कन्टेनमेंट जोन मुक्त किया है।

जिला प्रशासन द्वारा आज जनपद के विभिन्न चयनित स्थानों पर अधिकृत 21 मोबाईल वैन के माध्यम से 143 क्विंटल फल-सब्जियों का विक्रय किया गया। जिला प्रशासन की टीम द्वारा स्वयंसेवी संस्थाओं के सहयोग से जनपद अन्तर्गत विकासखण्ड चकराता, विकासनगर, सहसपुर, रायपुर व डोईवाला एवं तहसील सदर में कुल 92 निराश्रित पशुओं जिसमें, 86 गौवंश एवं 6 अन्य पशुओं को चारा व पशु आहार उपलब्ध कराया गया।

जिलाधिकारी डाॅं0 आशीष कुमार श्रीवास्तव ने बताया है कि जनपद में कोरोना वायरस संक्रमण के दृष्टिगत 119 सैम्पल जाचं हेतु भेजे गये तथा 149 सैम्पल प्राप्त हुए, जिनमें 15 व्यक्तियों की रिपोर्ट पाॅजिटिव आने के फलस्वरूप जनपद में कोरोना पाॅजिटिव संक्रमितों की संख्या 692 हो गई है, जिनमें 98 व्यक्ति वर्तमान में उपचाररत् हैं। इसके अतिरिक्त जनपद में आज कुल 347 व्यक्तियों के सैम्पल लिये गये।


आशा कार्यकर्तियों की द्वारा जनपद देहरादून अन्तर्गत बनाये गये विभिन्न कन्टेंमेंट जोन में  व्यक्तियों की सामुदायिक निगरानी का कार्य किया जा रहा है जिसके अन्तर्गत आतिथि तक 14517 व्यक्तियों का फोलाअप किया जा चुका है। आंगनबाड़ी कार्यर्तियों द्वारा आज जनपद अन्तर्गत 14359 व्यक्तियों की सामुदायिक निगरानी का कार्य किया गया, जिनमें 160 होम क्वारेंटीन एवं 2 संस्थागत क्वारेंटीन किये गये व्यक्ति शामिल हैं।

अनलॉक-02 की गाइडलाइन्स के हिसाब से कल नगर निगम देहरादून और छावनी परिषद क्षेत्र में धार्मिक स्थलों के साथ ही होटल और मॉल भी खुल जाएंगे। हालांकि, धार्मिक स्थलों पर अभी दूर से ही दर्शन करने होंगे और सैनिटाइजर और साबुन से हाथ धोने की व्यवस्था जरूरी होगी। साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा और मास्क लगाना भी अनिवार्य होगा। कंटेनमेंट जोन में मौजूद धार्मिक स्थल, होटल और मॉल बंद ही रहेंगे। इस संबंध में जिलाधिकारी जरूरी निर्देश जल्द जारी करेंगे।

कोरोना रिपोर्ट: आज 51 नए केस, 120 लोग ठीक हुए

उत्तराखंड स्वास्थ्य विभाग द्वारा आज का हेल्थ बुलेटिन जारी किया गया है, जिसके अनुसार प्रदेश में आज कोरोना के 51 नए मामले सामने आए हैं। चिंता की बात यह कि ऊधमसिंह नगर जिले में 28 कोरोना के मरीज मिले हैं। देहरादून में 9, नैनीताल में 04, उत्तरकाशी और बागेश्वर में दो-दो मामले सामने आए हैं। इसके अलावा चमोली, चंपावत और पौड़ी गढ़वाल में एक-एक कोरोना के मरीज मिले हैं। प्रदेश में कुल संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 2881 हो गया है।

बुलेटिन के अनुसार, उत्तराखंड में कोरोना से मरने वाले लोगों की संख्या 41 और राज्य से बाहर भेजे गए मरीजों की संख्या 27 है। आज 120 मरीजों को अस्पताल से छुट्टी मिल गई, इसके बाद प्रदेश में एक्टिव केस की संख्या 582 रह गई है, कुल 2231 मरीज ठीक हो चुके हैं। प्रदेश में आज 1147 लोगों की कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव प्राप्त हुई है, 5709 सैंपल्स की रिपोर्ट का इन्तजार है।

प्रधानमंत्री अन्न योजना को नवम्बर माह तक बढ़ाए जाने पर मुख्यमंत्री ने जताया आभार

देहरादून : मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना को नवम्बर माह तक बढ़ाए जाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी का आभार व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि योजना को 5 माह बढ़ाए जाने से देश के 80 करोड़ गरीबों को बड़ी राहत मिलेगी। आने वाला समय त्यौंहारों का है।

प्रधानमंत्री जी की इस घोषणा से गरीब भाई-बहन, खुशी के साथ त्यौंहार मना सकेंगे। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना में अप्रैल-मई और जून माह में हर महीने 80 करोड़ गरीबों को प्रति व्यक्ति 5 किलो गेहूं या 5 किलों चावल जबकि प्रति परिवार 1 किलो दाल प्रति माह निशुल्क उपलब्ध कराई गई।

अब इस योजना को जुलाई से नवम्बर तक बढ़ाने से सरकार के इस संकल्प को बल मिलेगा कि कोई गरीब भूखा न सोए। योजना का 5 माह और विस्तार करने से 90 हजार करोड़ रूपए खर्च होंगे जबकि पहले के तीन माह भी जोड़ दिए जाएं तो इस योजना पर कुल खर्च 1 लाख 50 हजार करोड़ रूपए बैठता है।


मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना से उत्तराखण्ड के लाखों परिवार लाभान्वित हो रहे हैं। अब नवम्बर तक इस योजना को बढ़ाने से राज्य के इन परिवारों को राहत मिलेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री जी हम सभी के अभिभावक हैं। देश हित में उन्होंने हमेशा सही समय पर सही फैसले लिए।

उनके फैसलों के केंद्र बिंदु में इस देश के गरीबों का कल्याण होता है। लॉकडाउन को लेकर उन्होंने सही समय पर साहसिक फैसला लिया जिसके फलस्वरूप लाखों लोगों की जान बची। मुख्यमंत्री ने कहा कि 130 करोड़ भारतीय अपने प्रधानमंत्री के साथ हैं।

हम सभी को मिलजुलकर आगे बढ़ने का संकल्प लेना है। प्रधानमंत्री जी देशवासियों के हित में जो भी सम्भव है, कर रहे हैं। हमें भी अपने प्रधानमंत्री का साथ देना है। हमें केवल इतना करना है कि कोरोना को लेकर तमाम सावधानियां बरतनी हैं। मास्क का अनिवार्यता से प्रयोग करना है, दो गज की दूरी बनाए रखनी है और हाथों को नियमित रूप से धोना है। जब तक कोरोना की वेक्सीन तैयार नहीं होती तब तक यही इसकी दवा है।


उन्होंने कहा कि अनलॉक- 2 में राज्य में काफी सहूलियतें दी जा रही हैं, प्रदेशवासियों के लिये चारधाम यात्रा खोल दी गई है। होटल व्यवसाय को गति देने के लिये पर्यटक प्रदेश में आकर होटल में ठहर सकते हैं। इसके लिये उनका 48 घंटे पूर्व का कोरोना टेस्ट नेगेटिव होना चाहिए।
मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना संकट के दृष्टिगत प्रदेश में सभी चीजों का आंकलन किया जा रहा है। इस महामारी के कारण सामाजिक आर्थिक एवं मानसिक दिक्कतें भी उत्पन्न हुई है। हम सबको इसका सतर्कता से सामना करना होगा।

उन्होंने कहा कि पिछले दो दिनों में प्रदेश में कोरोना के मामलों में ठहराव व गिरावट आयी है। इस दिशा में हम सचेत हैं तथा राज्य में आने वालों की सतत रूप से चेकिंग की जा रही है तथा उनकी ट्रेवल हिस्ट्री देखी जा रही है। उन्होंने कहा कि इस महामारी का सामना करने के लिये हमारे डाक्टर तथा फ्रंट लाइन वर्कर सजगता के साथ अपने दायित्वों का निर्वहन कर रहे हैं।

100 साल पुराने पेड़ पर 42 प्रजातियों की ग्राफ्टिंग, लगेंगे अलग-अलग किस्मों के आम

देहरादून : मुख्यमंत्री आवास परिसर में उद्यान विभाग ने आम के एक पेड़ पर 42 प्रजातियों की ग्राफ्टिंग की। लगभग 100 साल पुराने ऐसे कई पेड़ों का पिछले साल जीर्णोद्धार किया गया था। इन्हीं में से आम के एक पेड़ पर अरुनिमा, अरुनिका, सूर्या, अम्लिका, लालिमा, मल्लिका, निलय, आम्रपाली समेत आम की 42 प्रजातियों की ग्राफ्टिंग की गई।

बताया जा रहा है कि इस पेड़ पर तीन साल बाद अलग-अलग किस्मों के आम लगेंगे। मुख्य उद्यान अधिकारी देहरादून मीनाक्षी जोशी ने मुख्यमंत्री को इन प्रजातियों से अवगत कराया। उन्होंने बताया कि आवास परिसर में मौनपालन से भी इस वर्ष 22 कि0ग्रा0 शहद का उत्पादन हुआ। इसके बाद मुख्यमंत्री ने उन्हें पुनः मौनपालन को बढ़ावा देने हेतु योजना बनाने हेतु निर्देश दिए गए हैं।


मुख्यमंत्री द्वारा उद्यान प्रभारी दीपक पुरोहित को आवास परिसर में औद्यानिकी की अन्य गतिविधियां भी शुरू करने हेतु निर्देशित किया गया। दीपक पुरोहित द्वारा बताया कि आवास परिसर में अगले वर्ष तक अनुमानित आम की 200 से भी अधिक प्रजातियाँ लगायी जायेंगी।

देहरादून : जिले में स्वस्थ हुए 486 लोग, 124 एक्टिव, 21 की हुई है मौत

देहरादून जिले के निवासियों के लिए राहत भरी खबर है। देहरादून में आज 34 कोरोना पॉजिटिव मरीजों ने कोरोना से जंग जीत ली है। इसके साथ ही जिले में स्वस्थ होने वाले मरीजों की संख्या 486 हो गई है।

आज जिले में 8 नए पॉजिटिव केस मिले हैं, जिसके बाद जनपद में कुल कोरोना संक्रमितों की संख्या 667 हो गई है जिनमें 124 व्यक्ति वर्तमान में उपचाररत् हैं और 21 लोगों की कोरोना से मौत हुई है, 13 मरीजों को जिले से बाहर भेजा गया है। आज 100 से अधिक सैम्पल जाचं हेतु भेजे गये हैं, राजधानी में कुल 29 इलाके कन्टेनमेंट जोन में हैं।

देहरादून डीएम आशीष कुमार श्रीवास्तव द्वारा अवगत कराया गया की नगर निगम देहरादून अन्तर्गत कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार को रोकने के दृष्टिगत किये गये लाॅकडाउन एवं डेंगू-मलेरिया के उन्मूलन हेतु अभियान चलाया गया। जनपद के विभिन्न नगर निगम, नगर निकायों में आज स्वच्छता, फागिंग एवं सेनिटाईजेशन का कार्य किया गया।

जिलाधिकारी द्वारा आज पत्थरीबाग क्षेत्र का निरीक्षण करते हुए डेंगू-मलेरिया उन्मूलन अभियान के तहत् किये जा रहे कार्यों का भी जायजा लिया।

जिला प्रशासन द्वारा आज जनपद के विभिन्न चयनित स्थानों पर अधिकृत 24 मोबाईल वैन के माध्यम से 132 क्विंटल फल-सब्जियों का विक्रय किया गया। जिला प्रशासन द्वारा बनाये गये विभिन्न कन्टेंमेंट जोन में दुग्ध विकास विभाग द्वारा दुग्ध उत्पाद का वितरण किया गया।

आज वायु सेवा के माध्यम से जौलीग्रान्ट एयरपोर्ट पर पंहुचे 243 प्रवासी  व्यक्तियों को स्वास्थ्य जांच उपरान्त जनपद में क्वारंटाइन किया गया है। इसी प्रकार जनपद के जौलीग्रान्ट एयरपोर्ट से विभिन्न प्रदेशों के 223 व्यक्तियों को गंतव्यों हेतु भेजा गया। काठगोदाम से देहरादून रेलवे स्टेशन पर 104 व्यक्ति पंहुचे तथा देहरादून रेलवे स्टेशन से दिल्ली हेतु 209  व्यक्ति एवं देहरादून से काठगोदाम हेतु 143 व्यक्ति गये।

देहरादून: सक्रंमण मुक्त हुए ये इलाके, 28 दिनों से नहीं आया कोई नया मामला

देहरादून के जिलाधिकारी आशीष कुमार श्रीवास्तव ने अवगत कराया है कि नगर निगम ऋषिकेश क्षेत्रान्तर्गत अवस्थित मोतीचूर लाईन पार बस्ती वार्ड न0-02 हरिपुरकला एवं तहसील डोईवाला क्षेत्रान्तर्गत अवस्थत ग्राम फतेहपुर टाण्डा को कन्टेंमेंट जोन से मुक्त किया गया है।

उक्त इलाकों को कोविड-19 संक्रमित व्यक्ति चिन्हित होने के फलस्वरूप लाॅकडाउन  किया गया था। इन इलाकों में पिछले 28 दिनों तक एक्टिव सर्विलांस किया गया तथा किसी भी अन्य व्यक्ति में कोविड-19 संक्रमण के लक्षण नही पाये गये हैं।

मुख्य चिकित्साधिकारी देहरादून की सस्तुति के उपरान्त इन इलाकों को कन्टेंमेंट जोन से मुक्त किया गया है। जिला प्रशासन की और से बताया गया कि उनके द्वारा आज जनपद के विभिन्न चयनित स्थानों पर अधिकृत 26 मोबाईल वैन के माध्यम से 145 क्विंटल फल-सब्जियों का विक्रय किया गया।

जिला प्रशासन द्वारा बनाये गये विभिन्न कन्टेंमेंट जोन वीरभद्र ऋषिकेश, भरत विहार लेन न0 4, भागीरथी पुरम, रेलवे कालोनी, गीता नगर गली, आवास विकास कालोनी,  वीरपुर खुर्द्ध ऋषिकेश तथा नगर निगम देहरादून क्षेत्रातंर्गत मोहनी रोड़, सर्कुलर रोड़, चमनविहार, कंलिगा कालोनी, पूर्वी पटेलनगर, खुड़़बुड़ा, राम विहार बल्लपुर,बसंत विहार, ब्रहा्रम्पुरी में कुल 195 ली0 दूध विक्रय किया गया।

इसके अलावा जिला प्रशासन की टीम द्वारा स्वयंसेवी संस्थाओं के सहयोग से जनपद अन्तर्गत विकासखण्ड चकराता, विकासनगर, सहसपुर, रायपुर व डोईवाला एवं तहसील सदर में कुल 97 निराश्रित पशुओं जिसमें, 87 गौवंश एवं 10 अन्य पशुओं को चारा व पशु आहार उपलब्ध कराया गया।